MP: मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकम्पा नियुक्ति एवं विशेष अनुग्रह योजना क्या है ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, आवेदन की प्रक्रिया

Table of Contents

MP:मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकम्पा नियुक्ति एवं विशेष अनुग्रह योजना क्या है ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, आवेदन की प्रक्रिया:-नमस्कार दोस्तों आज हम आपको बताएंगे की मध्यप्रदेश में कोरोना से संकट के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा शुरू कि गई मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकम्पा नियुक्ति योजना क्या है एवं मुख्यमंत्री कोविड-19 विशेष अनुग्रह योजना क्या है व मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना क्या है, ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, आवेदन की प्रक्रिया। एवं कई महत्वपूर्ण फैसले भी लिए गए हैं जिसकी पूरी जानकारी आपको इस लेख में मिल जाएगी।

MP: मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकम्पा नियुक्ति एवं विशेष अनुग्रह योजना क्या है ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, आवेदन की प्रक्रिया

किसने शुरू की है

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान जी द्वारा

योजना का लाभ

मध्य प्रदेश के सभी लोगों को

आवेदन प्रक्रिया क्या है

अभी उपलब्ध नहीं है

आधिकारिक वेबसाइट

जल्द ही उपलब्ध होगी

मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकम्पा नियुक्ति योजना क्या है?

मुख्यमंत्री कोविड-19 अनुकम्पा नियुक्ति योजना में समस्त नियमित स्थाईकर्मी, कार्यभारित एवं आकस्मिकता निधि से वेतन पाने वाले, दैनिक वेतन भोगी, तदर्थ, संविदा, कलेक्टर दर, आउटसोर्स के रूप में कार्यरत शासकीय सेवकों के लिए लागू की गई है। योजना के अंतर्गत इन सेवायुक्तों की कोविड संक्रमण से मृत्यु होने पर उनके परिवार के पात्र एक सदस्य को उसी प्रकार के नियोजन में अनुकम्पा नियुक्ति दी जाएगी।

● मध्यप्रदेश के CM शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को हुई बैठक में एक बड़ा फैसला लिया है। उन्होंने कहा कि कोरोना के इस संकट काल में मध्य प्रदेश सरकार कोविड-19 ड्यूटी के दौरान जान गंवाने वाले कर्मचारियों के परिजनों को रोजगार देने का ऐलान किया है। यह फैसला मुख्यमंत्री ने कोविड-19 अनुकंपा आधार पर नियुक्ति योजना के तहत लिया जाएगा। आगे पढ़ें-

मुख्यमंत्री कोविड-19 विशेष अनुग्रह योजना क्या है?

● मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि राज्य शासन ने निर्णय लिया है कि मुख्यमंत्री कोविड-19 विशेष अनुग्रह योजना के तहत राज्य में कार्यरत समस्त, नियमित, स्थाईकर्मी, तदर्थ, दैनिक वेतन भोगी, संविदा, अन्य शासकीय सेवक /सेवायुक्तों, आउटसोर्स की कोविड-19 के दौरान आकस्मिक मृत्यु हो जाने पर उनके परिवारों को जल्द से जल्द आर्थिक सहायता के रूप में 5 लाख रुपए की अनुग्रह राशि प्रदान की जाएगी। आगे पढ़ें-

यह दोनों योजना 1 मार्च 2021 से लागू होगी, इस तारीख के बाद कोरोना से मृतकों के परिवारों को इसका फायदा मिलेगा। इसमें यह भी अहम होगा कि 1 मार्च के बाद जो कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव हुए हैं, उनकी 60 दिन के भीतर मौत हुई है, उन्हें इस योजना का लाभ दिया जाएगा।

मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना क्या है?

● मध्यप्रदेश सीएम शिवराज सिंह चौहान के द्वारा हाल ही में शुरू की गई मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना में ऐसे बच्चों को आर्थिक, खाद्य एवं शिक्षा सहायता देने का निर्णय किया है जिनके माता-पिता की कोविड-19 से आकस्मिक में निधन हो गया है, ऐसे सभी बच्चों को राज्य सरकार ने मुख्यमंत्री को कोविड-19 बाल कल्याण योजना के दायरे में रखकर तत्काल प्रभाव से इस योजना को लागू करने के आदेश दे दिए हैं।

आवेदन की प्रक्रिया

मुख्यमंत्री कोविड-19 बाल कल्याण योजना में सभी आवेदन दस्तावेजों सहित योजना के लिए निर्मित पोर्टल covidbalkalyan.mp.gov.in पर ही प्राप्त किए जाएंगे। आवेदन की प्रक्रिया नि:शुल्क होगी। 

महिला-बाल विकास विभाग द्वारा जारी आदेश में इस योजना के उद्देश्य एवं क्रियान्वयन प्रक्रिया को स्पष्ट किया गया है इस योजना में परिवार से तात्पर्य है माता-पिता और उन पर आश्रित उनके बच्चे से है बाल हितग्राही से आशय है ऐसे बालक बालिका जिनकी आयु 21 वर्ष या उससे भी कम है पर वे स्नातक में अध्ययनरत रहने की स्थिति में 24 वर्ष या स्नातक पाठ्यक्रम निर्धारित अवधि तक अध्ययन करना चाहते हैं ऐसे बालक बालिकाओं को इस योजना के अंतर्गत जोड़ा जाएगा। आगे पढ़ें-

 

“कोविड-19 से मृत्यु” का अभिप्राय ऐसी किसी भी मृत्यु से है, जो 1 मार्च, 2021 से 30 जून, 2021 तक की अवधि में हुई

18 वर्ष से अधिक के सभी नागरिक कोविड-19 वैक्सीन लगवा सकते हैं इसके लिए आप घर बैठे ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं जाने ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने की पूरी प्रोसेस:- Click here

मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना:-

 

● मुख्यमंत्री कोविड उपचार योजना के अंतर्गत प्रदेश के शासकीय अस्पतालों/ कोविड केयर सेंटर में प्रदेश का कोई भी नागरिक भर्ती होकर निःशुल्क इलाज करा सकता है। इस कम्पोनेंट के तहत आज दिनांक की स्थिति में 13 हजार 785 मरीज उपचाररत हैं।

 

CM शिवराज सिंह चौहान ने कहा की, कोरोना महामारी से अनेक परिवारों में कोई भी कमाने वाला और पालन-पोषण करने वाला सदस्य जीवित नहीं बचा है। ऐसे सभी परिवारों को जीवन यापन करने का संकट पैदा हो गया है।

 

मध्य प्रदेश CM शिवराज सिंह चौहान द्वारा लिए गए तत्काल फैसले:-

● मध्य प्रदेश सीएम शिवराज सिंह चौहान द्वारा कहा गया है कि जो बच्चे कोरोना से अनाथ हो गए हों उनका खयाल सरकार रखेगी। उनकी जानकारी हमे दीजिए, ऐसे बच्चों को 21 साल की उम्र के बाद स्नातक की पढ़ाई कर रहे हैं तो पढ़ाई पूरी होने या फिर 24 साल की उम्र पूरी होने तक सरकार की ओर से 5000 रुपये पेंशन के रूप में दिए जाएंगे तथा शिक्षा प्राप्त करने के लिए निशुल्क प्रबंध किया जाएगा, अनाथ बच्चों, बुजुर्गों और परिवारों को पात्रता नहीं होने के बाद भी मुफ़्त राशन दिया जाएगा जिससे उनके भोजन की समस्या का समाधान हो सके।

p.

● काम-धंधे के लिए सरकार की गारंटी पर बिना ब्याज के मिलेगा ऋण:-

सरकार ने यह भी फैसला किया कि अनाथ बच्चों और बुजुर्गों के परिवार और अनाथ हुए परिवार का कोईसदस्य यदि काम-धंधा करना चाहता है तो उसको प्रदेश सरकार की गारंटीपरबिना ब्याज का ऋण उपलब्ध कराया जाएगा। सीएम ने कहा, कोरोना महामारी ने कई परिवारों को तोड़ कर रख दिया है।

 

● मध्य प्रदेश सीएम शिवराज सिंह चौहान द्वारा कहा गया है कि कोविड-19 के कारण दूसरी लहर में ऐसे परिवार जिन्होंने अपना सदस्य कोरोना से खोया हो उन्हे 1 लाख रुपये की अनुग्रह राशि दी जाएगी। इसके अलावा उन्होंने अपील की है कि आप ऐसे लोगों को ढूँढे और उनकी सहायता करें इन योजनाओं का लाभ लेने में।

 

● निःशुल्क उपचार:- प्रदेश के चार जिलों इंदौर, भोपाल, देवास, उज्जैन के प्राइवेट चिकित्सा महाविद्यालय के अस्पतालों में अनुबंधित बिस्तरों पर प्रदेश का कोई भी नागरिक भर्ती होकर निःशुल्क उपचार करा सकता है। इस कम्पोनेंट के तहत आज दिनांक की स्थिति में 2,307 मरीज उपचाररत हैं।

 

आयुष्मान मध्यप्रदेश:- कोविड का इलाज सरकार करवा रही है। आयुष्मान भारत योजना में अतिरिक्त पैकेज देकर सबका इलाज करवाया जा रहा है, इसके लिए अस्पताल अनुबंधित किये गए हैं, समस्त आयुष्मान से संबंद्ध अस्पतालों में आयुष्मान कार्ड की पात्रता रखने वाले परिवार के सभी सदस्यों का निःशुल्क उपचार किया जा रहा है। इस कम्पोनेंट के तहत अब तक 5,403 मरीज उपचार प्राप्त कर चुके हैं।

 

मनो-सामाजिक सहायता हेल्पलाइन:-

कोरोना काल में मानसिक व भावनात्मक सहयोग हेतु चिकित्सकीय परामर्श (08046110007 टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर)

• निन्हांस, बैंगलोर द्वारा कोविड-19 से संबंधित भावनात्मक चिकित्सकीय सहायता एवं मनोसामाजिक परामर्श सेवायें उपलब्ध कराई जा रही हैं ।

 

• इस नंबर पर मानसिक स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं द्वारा कोरोना पॉजिटिव व क्वारेंटाईन किये गये लोगों को तनाव प्रबंधन तथा अन्य मानसिक भावनात्मक समस्याओं हेतु मनोवैज्ञानिक सहयोग एवं परामर्श दिया जा रहा है। इसके साथ ही सभी कॉल्स की गोपनीयता भी सुनिश्चित की गई है।

CM शिवराज सिंह चौहान ने राज्य में कोरोना वायरस संक्रमण की स्थिति के संबंध में PM नरेंद्र मोदी से चर्चा की है। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से राज्य में चल रहे कोरोना वायरस के संक्रमण की स्थिति के बारे में अवगत कराया की राज्य में स्थिति अब पहले से बेहतर है।

पीएम  किसान सम्मान निधि योजना का पैसा कैसे चेक करें कि आपके खाते में आया है या नहीं:-Click here 

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम अर्पित है, मैं इस ब्लॉग का Writer और Founder हूँ और इस वेबसाइट के माध्यम से मैं शिक्षा जगत के समाचार, सरकारी योजनाएं तथा डेली शेयर होने वाली महत्वपूर्ण जानकारियां Share करता हूँ. Read more>>

Leave a Comment